क्या करते SPG कमांडो अगर उस दिन PM Narendra Modi पर हमला होता ?

अगर उस दिन पीएम पर हमला होता तो फिर क्या करते हैं? एसपीजी कमांडो एसपीजी है तो फिर किस बात का गम है, मिनट भर में बदल जाता है। वहां का मंजर जिंदगी में सब से पंगा लेना। लेकिन एसपीजी कमांडो से कभी मत लेना कहते हैं कि पीएम मोदी पर थोड़ी भैया चाहती तो एसपीजी कमांडो पीएम के दुश्मनों को दुआ बना देती। मुझे नहीं सोचते कि कितनी गोली निकली। यह भी नहीं सोचते कि कितने लोग मरे एसपीजी वह तूफान है जो किसी भी सुनामी से कम नहीं है। सीधे शब्दों में कहें तो मुट्ठी भर लोग तो क्या एक बार यमराज भी सामने होते पीजी कमांडो मुकाबला करने को तैयार रहेंगे। 

image

अब हम आपको डिटेल्स में बताते हैं। एसपी जी खेड़ा दुनिया का सबसे सुरक्षित घेरा क्यों कहा जाता है। एसपी ने जवानों के पास आपको जो भी सामान दिख रहा है, उनमें से हरेक सामान की अपनी तकनीक है। काला चश्मा से लेकर जूते तक में कोई न कोई गहरा राज छुपा होता है। पीएम मोदी को कुछ ही सेकंड में कैसे सुरक्षित कर सकते हैं यह सब जानने। जी आपको हमारी पूरी रिपोर्ट देखनी होगी। शरीर पर दिखने वाली जगीरो आइटम्स बहुत काम के एसपीजी कमांडो उसकी सुरक्षा चार स्तर की होती है। 

क्या करते SPG कमांडो अगर उस दिन PM Narendra Modi पर हमला होता ?

पहले स्तर में एसपीजी की टीम के पास सुरक्षा का जिम्मा होता है। एसपीजी के 24 कमांडो प्रधानमंत्री की सुरक्षा में तैनात रहे थे। कमांडोज के पास fs2004 ट्रांसफर होती है। सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल और दूसरे अत्याधुनिक हथियार होते प्रधानमंत्री बुलेट प्रूफ कार में सवार होते काफिले में दो विशेष गाड़ियां चलती है, जिनमें विषम परिस्थिति  से लड़ने की पूरी क्षमता होती है। नाव हाई प्रोफाइल गाड़ियों के अलावा एंबुलेंस और जेवर भी साथ होता है। पीएम के काफिले में डमी कार चलती है जो किसी विषम परिस्थिति में बहुत उपयोगी होती है। काफिले में करीब 100 जवान शामिल होते राजीव गांधी की हत्या कब हुई थी, उनकी सुरक्षा एसपीजी जवानों के हाथों में नहीं थी।

पीएम पद से हटने के बाद चंद्रशेखर ने राजीव गांधी की स्पीच सुरक्षा हटवा दी थी। लोग कहते हैं कि अगर पूर्व पीएम के पास एसपीजी होती तो आज राजीव! मनीष जिंदा होते एसपीजी के जवानों को गोली चलाने से पहले किसी की परमिशन की जरूरत नहीं होती। पीएम की सुरक्षा पर रोज 10500000 रुपए खर्च होते सालाना बजट 592 करो है। एसपी के हाथों में यह बैग आपको देखता है। दरअसल यह बैक नहीं। यह हो हथियार जो पीएम को गोलीबारी से बचा सकता है। बुलेट प्रूफ फील्ड है जो किसी भी हमले के दौरान एसपीजी जवान खुद के सामने से खड़ा कर दुश्मन का सामना कर सकते। 

कुछ इस अंदाज में भी हमलावर को रोक सकते। पीएम मोदी गाड़ी में बैठे चारों तरफ से कमांडोज ने घेरा बना लिया है और चारों तरफ से पीएम मोदी को सुरक्षा दे रहे। लेकिन एक बात आप भी गौर की इस तस्वीर को देखिए कुछ लोग दावा कर रहे हैं कि कमांडो को गोली चलाने से पहले परमिशन लेना होता है जबकि ऐसा नहीं एसपीजी कमांडो के हाथ में गन गन के ट्रिगर पर उंगली से सिर्फ एक बार दबाना है और राइफल से अनगिनत गोली निकली। एक साथ कई जान जा सकती थी। 

इसलिए कभी भी जीवन में पीएम की सुरक्षा में बाधा नहीं बोलना चाहिए या नहीं। कुछ भी करो लेकिन एसपीजी कमांडो से पंगा मत लो। जवान के हाथ में जो हथियार है वह हैपन टू हंड्रेड असाल्ट राइफल जो 900 रन प्रति मिनट गोली चल आती है। यह 500 मीटर दूर खड़े व्यक्ति पर निशाना लगा सकती। जैसे को छत पर बैठा हूं और पीएम मोदी पर निशाना लगा रहा हूं तो एसपीजी कमांडो 500 मीटर दूर से उसे ढेर कर सकते हैं। इसके अलावा भी कई तरह के गुप्त हथियारों से लैस एसपीजी जवानों के पास हैंड्सफ्री होता है जो 50 मीटर तक रेंज में मार कर सकता है। एसपीजी जवानों के कान में इयरप्लग होता है जिससे वह पूरी तरह टीम के साथ जुड़े रहते हैं, जबकि काला चश्मा इसलिए लगाते हैं। 

image

अगर कोई धमाका हो जाए या 30 रोशनी उनकी आंखों पर पड़े तो किसी भी परिस्थिति में उनकी आंखें बंद ना हो। उनकी आंखों पर किसी भी केमिकल या किसी भी गैस का बहुत ज्यादा असर ना हो। इसलिए वह हमेशा काला चश्मा लगाकर टी एस पी जी के पास इतनी ताकत है कि पीएम की बात सुनने के लिए बाध्य नहीं होते। अगर उन्हें लगा कि वहां कोई खतरा है तो पहले सूझबूझ के साथ बिना हथियार निपटने की कोशिश करते जिसके लिए बकायदा। ट्रेनिंग दी जाती है लेकिन मामला गंभीर हुआ तो 1 सेकंड में गोली भी चला देते। एसपीजी के रहते पीएम मोदी को कुछ भी नहीं हो सकता। कमांडो जानते हैं उनके ऊपर साल में 600 करोड़ क्यों खर्च किया जाता है। फिलहाल भारत की एक व्यक्ति को ही सुरक्षा दी जाती है और प्रधानमंत्री के साथ एसपीजी रहती एसपीजी मतलब धरती का बोझ सुरक्षा कवच जिससे यमराज भी आसानी से नहीं तोड़ पाएंगे |

Leave a Comment